Tuesday, November 29, 2022
Home हेल्थ करते हैं ब्लूटूथ का इस्तेमाल, तब इन बातों का रखे खास ध्यान

करते हैं ब्लूटूथ का इस्तेमाल, तब इन बातों का रखे खास ध्यान

ब्लूटूथ उन अहम और मुख्य कनेक्टिविटी विकल्पों में से एक बन गया है जो स्मार्टफोन और कंप्यूटर को कनेक्ट कर सकता है।ब्लूटूथ एक अहम कनेक्टिविटी विकल्प है और यह जानने के बाद, ऑनलाइन हैकर्स धीरे-धीरे ब्लूटूथ कनेक्शन और टारगेट सिस्टम्स को बाधित करने के नए तरीके ढूंढ रहे हैं। हालांकि, इस तरह के अटैक्स का दायरा काफी सीमित है। ऐसा इसलिए क्योंकि ब्लूटूथ पेयरिंग डिफ़ॉल्ट रूप से एन्क्रिप्टेड होती है। लेकिन क्या हो अगर आपके फोन का ब्लूटूथ आपने ऑन तो कर रखा है लेकिन उसका इस्तेमाल न कर रहे हों। वैसे तो हमेशा यह सलाह दी जाती है कि जब आपके फोन का ब्लूटूथ उपयोग में न हो तो उसे बंद करके रखें। इसे लेकर एक अध्ययन किया गया है, जिसमें ब्लूटूथ को बिना इस्तेमाल ऑन न रखने के अभ्यास का महत्व बताया गया है। इस अध्ययन में एक नए तरीके का उल्लेख किया गया है जिसमें आपके फोन की लोकेशन को ट्रैक करने के लिए ब्लूटूथ ट्रांसमिशन का उपयोग किया जा सकता है। हैरान हो गए न ये जानकार, लेकिन यह सच है।

यह सोचने वाली बात है कि ब्लूटूथ को किसी डिवाइस की लोकेशन से कैसे जोड़ा जा सकता है? तब चलिए जानते हैं वैज्ञानिक बताते हैं कि वास्तव में ऐसा करने का एक तरीका है और हैकर्स द्वारा इस तरीके का इस्तेमाल किया जाता है तो यह तरीका बहुत खतरनाक हो सकता है। ओरिजनल डिवाइस को ट्रैक करने के लिए ब्लूटूथ का उपयोग कैसे किया जाता है इसके लिए वैज्ञानिकों ने ब्लूटूथ तकनीक के एक विशिष्ट पहलू पर ध्यान केंद्रित किया। यह ब्लूटूथ लो एनर्जी या बीएलई कहा जाता है। बीएलई, ब्लूटूथ का लो एनर्जी फॉर्मेट है जो तुलनात्मकरूप से कम पावर खपत करता है। हालांकि, यह बैंडविड्थ और रेंज से कॉम्प्रोमाइज करके ऐसा करता है।

बिजली की कम खपत के चलते, कई बार 99 प्रतिशत तक बीएलई, डिवाइस के ब्लूटूथ के ऑन रहने तक लगातार सिग्नल संचारित कर सकता है।इसकारण जब वैज्ञानिकों को पता चला कि सिग्नल का एक कॉन्सटैंट सोर्स है जिस पर वे टैप कर सकते हैं, तो केवल एक चीज बचती है और वो है व्यक्तिगत रूप से इन संकेतो के पहचानना। रिसर्चर्स ने तब अलग-अलग डिवाइसेज की पहचान करने पर फोकस किया। हर फोन के सिग्नल में खामियां लगभग बेहद यूनिक पाई गईं। इन भिन्नताओं को अलग करते हुए, शोधकर्ता हर फोन को बेहद ही सटीकता के साथ पहचानने में सक्षम रहे। रिसर्च के अनुसार, यह पहली बार एंड्रॉइड पुलिस द्वारा देखा गया है। तकनीक के परिणामस्वरूप फॉल्स पॉजिटिव रेट और फॉल्स नेगेटिव रेट 5 फीसद से नीच रहे।

इस रिसर्च का मतलब या सार यह है कि अगर ब्लूटूथ को ऑन रखते हैं,तब आपके फोन के ब्लूटूथ का उपयोग आपको ट्रैक करने के लिए किया जा सकता है। हालांकि, इस प्रकार के लोकेशन ट्रैकिंग की बहुत अधिक सीमाएं हैं। सबसे पहले, इस सिस्टम को आपके पास और एक स्टेबल वातावरण में काम करना होगा। क्योंकि कई कारकों के परिणामस्वरूप रिकॉर्डिंग में गड़बड़ी होने की संभावना बनी रहती है या गड़बड़ी हो सकती है। इसके अलावा, इन बीएलई सिग्नल्स में खामियां हमेशा यनिक नहीं होता हैं। इसका मतलब यह है कि कुछ डिवाइस हैं जो एक जैसे सिग्नल उत्पन्न कर सकते हैं और इसलिए व्यक्तिगत रूप से पहचाना नहीं जा सकता है। भले ही, इस रिसर्च ने हैकर्स के प्लान को खोल दिया है कि वहां इस तरह से यूजर्स की लोकेश का पता लगाते हैं।

RELATED ARTICLES

बालों के विकास के लिए जरूरी हैं ये पोषक तत्व, जानिए इनके स्त्रोत

शरीर की तरह आपको भी बालों के विकास के लिए कुछ आवश्यक पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। पोषक तत्व बालों के रोम को...

माइग्रेन से लेकर साइनस तक, जानें क्या है विभिन्न प्रकार के सिरदर्द में अंतर

सिरदर्द एक बेहद आम समस्या है। यह कई तरह के होते हैं और हर एक के अपने कारण, लक्षण और उपचार के विकल्प भी...

ज्यादा पानी पीने से हो सकती हैं ये गंभीर बीमारियां, बचने के लिए करें ये काम

कहते हैं पानी सबकी सेहत के लिए जरुरी है, हालाँकि अधिक पानी पीना सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है। आपको बता दें कि...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

सात दिवसीय प्रस्तावित सत्र के पहले दिन सरकार ने पेश किया 5 हजार 444 करोड़ का अनुपूरक बजट

देहरादून। विधानसभा का सात दिवसीय शीतकालीन सत्र आज मंगलवार से शुरू हो गया है। सदन की कार्यवाही शुरू होते ही कानून व्यवस्था पर कांग्रेस...

रुद्रपुर मेडिकल कॉलेज में राज्यपाल ने किया विशिष्ट कार्यों के लिए सात महान विभूतियों को किया सम्मानित

रुद्रपुर।  उत्तराखंड में तराई के संस्थापक पंडित राम सुमेर शुक्ल की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह मेडिकल कॉलेज...

कोटद्वार स्टेडियम में हुआ स्कॉलर्स एकेडमी एनुअल स्पोर्ट्स मीट का आगाज

कोटद्वार (राष्ट्रमीडिया डेस्क)। कोटद्वार स्टेडियम में 'स्कॉलर्स एकेडमी एनुअल स्पोर्ट्स मीट' का आयोजन किया जा रहा है। तीन दिनों तक चलने वाले स्पोर्ट्स मीट...

देहरादून के गुच्‍चुपानी में हुई ई-रिक्शा चालक की हत्या, जानिए पूरा मामला

देहरादून। कैंट स्थित गुच्‍चुपानी में एक ई-रिक्शा चालक की हत्या का मामला सामने आया है। व्यक्ति के सर पर वार करके उसकी हत्या की...

आठ दिसंबर को पहली बार दो दिवसीय दौरे पर देहरादून पहुंचेंगी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू

देहरादून। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू आठ दिसंबर को दो दिवसीय दौरे पर देहरादून आ रही हैं। इस दौरान वह यहां द प्रेसीडेंट बॉडीगार्ड स्टेट स्थित ‘आशियाना’...

अब कॉल करने वाले की फोटो भी दिखेगी आपके फोन में, ट्राई का नया नियम तैयार

नई दिल्ली। सरकार की तरफ से मोबाइल कॉलिंग की दिशा में एक नियम लाने जा रही है, टेलिकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया जल्द ही केवाईसी...

बालों के विकास के लिए जरूरी हैं ये पोषक तत्व, जानिए इनके स्त्रोत

शरीर की तरह आपको भी बालों के विकास के लिए कुछ आवश्यक पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। पोषक तत्व बालों के रोम को...

श्रद्धा वालकर हत्याकांड: आफताब का ड्रग्स कनेक्शन को लेकर हुआ बड़ा खुलासा

दिल्ली- एनसीआर। श्रद्धा वालकर हत्याकांड में नया खुलासा सामने आया है। दिल्ली पुलिस को आरोपी आफताब अमीन पूनावाला का ड्रग्स कनेक्शन से संबंधित महत्वपूर्ण इनपुट्स...

देहरादून और ऋषिकेश में टैक्सी और तिपहिया वाहनों ने लगाया चक्का जाम, परेशानियों से जूझ रहे यात्री

ऋषिकेश। आज मंगलवार को ट्रांसपोर्टरों के प्रदेशव्यापी चक्का-जाम का मिलाजुला असर दिख रहा है। आज संभागीय परिवहन प्राधिकरण की ओर से 10 वर्ष की आयु...

अजय देवगन की दृश्यम 2 ने 100 करोड़ रुपये के क्लब में मारी एंट्री

अजय देवगन की फिल्म दृश्यम 2 बॉक्स ऑफिस पर छाई हुई है। इस फिल्म को सिनेमाघरों में अच्छी शुरुआत मिली है। अब फिल्म ने...