Sunday, December 4, 2022
Home उत्तराखंड उत्तराखंड में 22 साल बाद भी नहीं सुधरी स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति,...

उत्तराखंड में 22 साल बाद भी नहीं सुधरी स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति, अस्पताल शोपीस बने हैं, आइसीयू बेड की कमी बढ़ा रही जोखिम

देहरादून। सड़क सुरक्षा के महाभियान के तहत राष्ट्रीय समाचार पत्र दैनिक जागरण के द्वारा उत्तराखंड में चलाये जा रहे अभियान में स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति का भी आकलन किया गया है। पिछले 22 सालों में स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति में उम्मीद के मुताबिक सुधार देखने को नहीं मिला है। सड़क दुर्घटनाओं में हर साल सैकड़ों लोग अपनी जान गंवाते हैं। घटना स्थल से अस्पताल की दूरी तय करने में जितना वक्त लगता है, घायलों की जान को खतरा उतना बढ़ता जाता है। इस कसौटी पर जिले की स्वास्थ्य सेवाओं का आकलन करें तो मौजूदा सिस्टम में भारी असंतुलन दिखाई पड़ता है। बीते 10-15 वर्षों में जिले में तेजी से स्वास्थ्य क्षेत्र में ढांचागत विकास हुआ।

अस्पताल शोपीस बने हैं, न जांच आदि की पर्याप्त सुविधाएं
सार्वजनिक से लेकर निजी क्षेत्र में यह बदलाव दिखता भी है। पर अफसोस कि बदलाव का ये चक्र शहर तक ही सीमित रहा। सड़क सुरक्षा के महाभियान के तहत हमने पाया कि मसूरी से लेकर जौनसार बावर तक का क्षेत्र स्तरीय स्वास्थ्य सेवाओं से महरूम है। अस्पताल शोपीस बने हैं, जिनमें न जांच आदि की पर्याप्त सुविधाएं हैं और न ही विशेषज्ञ चिकित्सक। हालात ये है कि दुर्घटना होने पर घायल व्यक्ति को इलाज के लिए दून लाना मजबूरी बन जाता है। जिसमें उसकी जान पर जोखिम कई गुना बढ़ जाता है। कई बार इलाज की आस में मरीज की सांस उखड़ जाती है।

आइसीयू बेड की कमी बढ़ा रही जोखिम
आइसीयू की कमी भी घायलों की जान पर जोखिम बढ़ा रही है। मौजूदा स्वास्थ्य सेवाओं का जायजा लेने पर पता चला कि देहरादून जिले की आबादी लगभग 20 लाख के करीब है, पर सार्वजनिक व निजी क्षेत्र में 750-800 ही आइसीयू बेड हैं। यह ऊंट के मुंह में जीरा वाली स्थिति है। ऐसे समय में जब मरीज की सांसें उखड़ रही होती हैं और उसे बचाने के लिए तत्काल उपचार की आवश्यकता होती है, उस समय आइसीयू की खोज में अस्पतालों की खाक छानने से मरीज के बचने की संभावना बहुत कम रह जाती है।

रात में सिस्टम सुप्त अवस्था में
रात के समय अधिकांश अस्पतालों की इमरजेंसी में स्टाफ सुप्त अवस्था में रहता है। ऐसे में देररात कोई दुर्घटना होने पर घायलों को इलाज के लिए फजीहत झेलनी पड़ती है। इस समय न तो चिकित्सक ढंग से देखता है और न ही स्टाफ सीधे मुंह बात करता है। अधिकांश अस्पतालों में सीटी, एमआरआइ व अन्य जांच आदि की भी सुविधा नहीं मिलती। यह स्थिति में जान का जोखिम बढ़ा देती है।

मौलिक अधिकार, पर जानकारी नहीं
पूर्व स्वास्थ्य महानिदेशक डा. आरपी भट्टड्ढ बताते हैं कि दुर्घटना में घायल व्यक्ति का इलाज करने से कोई भी सरकारी या निजी अस्पताल इन्कार नहीं कर सकता है। सुप्रीम कोर्ट ने इसे मौलिक अधिकार घोषित किया है। पर सड़क दुर्घटना में आमतौर पर घायलों को नजदीकी अस्पताल को छोड़ सरकारी अस्पतालों में ले जाया जाता है। दुर्भाग्यवश, कई लोग की समय से चिकित्सा सुविधा न मिलने के कारण मौत हो जाती है। जबकि नजदीकी अस्पताल की जिम्मेदारी है कि वह घायल को जरूरी उपचार दे।

एंबुलेंस, निजी अस्पतालों का गठजोड़
जिले में निजी अस्पतालों व एंबुलेंस संचालकों का गठजोड़ भी घायलों की जान पर जोखिम बढ़ा रहा है। अधिकांश एंबुलेंस संचालकों का निजी अस्पतालों से कमीशन तय है। ऐसे में वे घायल को किसी बड़े अस्पताल में ले जाने के बजाए उस नंिर्सग होम या अस्पताल में ले जाते हैं, जहां स्वास्थ्य सेवाएं स्तरीय नहीं हैं। जब तक मरीज को हायर सेंटर रेफर किया जाता है, उसकी स्थिति बिगड़ जाती है।

जिले में स्वास्थ्य सेवाओं का ढांचा
01-एम्स
01- सरकारी मेडिकल कालेज
01- जिला चिकित्सालय
03- निजी मेडिकल कालेज
04- उप जिला चिकित्सालय
05-सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र
10- हेल्थ पोस्ट
12-अर्बन पीएचसी
20 -प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र
24 -स्टेट एलोपैथिक डिस्पेंसरी
150- निजी र्नंिसग होम एवं अस्पताल
171- स्वास्थ्य उप केंद्र

एंबुलेंस
32-108 आपातकालीन सेवा
695-निजी एंबुलेंस सेवा

RELATED ARTICLES

अल्‍मोड़ा में पलभर की खुशियां हुई मातम में तबदील, 100 मीटर गहरी खाई में गिरी बरातियों की कार

अल्मोड़ा। उत्‍तराखंड के अल्‍मोड़ा में शादी की खुशियां मातम में बदल गईं। भैंसियाछाना ब्लाक के जमराड़ी बखरिया में एक बरात में शामिल कार 100 मीटर...

विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर सीएम धामी ने 32 दिव्यांगजनों को किया सम्मानित

कृत्रिम अंग अनुदान की धनराशि 3500 रूपये से बढ़ाकर 7000 रूपये की जायेगी। वृद्धावस्था पेंशन योजना की तरह ही दिव्यांग पेंशन योजना को सरलीकृत किया...

अंकिता हत्याकांड- सीबीआइ जांच और वीआइपी के नाम का खुलासा करने की मांग को लेकर 52 दिन से आंदोलन पर बैठे अनशनकारी पहुंचे सीएम...

ऋषिकेश। वनंतरा रिसॉर्ट मामले में सीबीआइ जांच और वीआइपी के नाम का खुलासा करने की मांग को लेकर 52 दिन से ऋषिकेश में आंदोलन चल...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

अल्‍मोड़ा में पलभर की खुशियां हुई मातम में तबदील, 100 मीटर गहरी खाई में गिरी बरातियों की कार

अल्मोड़ा। उत्‍तराखंड के अल्‍मोड़ा में शादी की खुशियां मातम में बदल गईं। भैंसियाछाना ब्लाक के जमराड़ी बखरिया में एक बरात में शामिल कार 100 मीटर...

विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर सीएम धामी ने 32 दिव्यांगजनों को किया सम्मानित

कृत्रिम अंग अनुदान की धनराशि 3500 रूपये से बढ़ाकर 7000 रूपये की जायेगी। वृद्धावस्था पेंशन योजना की तरह ही दिव्यांग पेंशन योजना को सरलीकृत किया...

राष्ट्रीय स्तर की सैंबों टूर्नामेंट खेलने जम्मू आए पंजाब के 9 खिलाड़ियों को एक बेकाबू कार ने रौंदा

जम्मू।  राष्ट्रीय स्तर की सैंबों टूर्नामेंट खेलने जम्मू आए पंजाब के 9 खिलाड़ियों को एक बेकाबू कार ने रौंद दिया। इनमें से दो की हालत...

आईपीएल 2023 की नीलामी के लिए 991 खिलाडिय़ों ने पंजीकरण कराया

नई दिल्ली। कोच्चि में 23 दिसंबर को होने वाली इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2023 की खिलाडिय़ों की नीलामी के लिए 714 भारतीयों सहित कुल 991...

अंकिता हत्याकांड- सीबीआइ जांच और वीआइपी के नाम का खुलासा करने की मांग को लेकर 52 दिन से आंदोलन पर बैठे अनशनकारी पहुंचे सीएम...

ऋषिकेश। वनंतरा रिसॉर्ट मामले में सीबीआइ जांच और वीआइपी के नाम का खुलासा करने की मांग को लेकर 52 दिन से ऋषिकेश में आंदोलन चल...

शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 18 पैसे चढक़र 81.08 पर आया

मुंबई। विदेशी बाजारों में अमेरिकी डॉलर की कमजोरी के बीच शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में रुपया 18 पैसे चढक़र 81.08 रुपये प्रति डॉलर पर आ...

आज शाम को थम जाएगा मैनपुरी लोकसभा क्षेत्र में उप चुनाव के प्रचार- प्रसार का शोर

उत्तर प्रदेश। मैनपुरी लोकसभा क्षेत्र, रामपुर और खतौली विधानसभा क्षेत्र में उप चुनाव के प्रचार का शोर शनिवार शाम 6 बजे थम जाएगा। उप चुनाव...

लाल सेब बनाम हरा सेब: दोनों में से किसका सेवन स्वास्थ्य के लिए है बेहतर?

अच्छे स्वास्थ्य के लिए सेब का सेवन फायदेमंद माना जाता है, लेकिन इसकी कई किस्में होती हैं। ज्यादातर लोग हरे और लाल सेब को...

दिल्ली एमसीडी चुनाव के मद्देनजर आज सभी सरकारी स्कूलों में रहेगा अवकाश

दिल्ली। एमसीडी चुनाव को लेकर कल मतदान होगा। 7 दिसंबर को मतगणना होगा। चार दिसंबर को मतदान के लिए सभी सरकारी स्कूलों में पोलिंग स्टेशन...

आयुष्मान खुराना की ड्रीम गर्ल 2 की रिलीज डेट खिसकी! अब इस दिन सिनेमाघरों में आएगी

अभिनेता आयुष्मान खुराना और अनन्या पांडे की फिल्म ड्रीम गर्ल 2 की रिलीज डेट फिर आगे खिसक गई है। पहले फिल्म के टीजर में...